टीम इंडिया में वापसी की बात करने वाले रैना के सन्यास ने चौंकाया : शिवम मावी

नोएडा। खेलरत्न, सं : Time, 8:30, PM.
पांच दिन पहले तक टीम इंडिया में वापसी की बात करने वाले पूर्व दिग्गज क्रिकेटर सुरेश रैना के सन्यास की घोषणा ने चौंकाया। यह बातें कोलकाता नाइट राइडर्स के तेज गेंदबाज शिवम मावी ने खेलरत्न डॉट ओआरजी वेबसाइट से बातचीत के दौरान कही। उन्होंने बताया कि चेन्नई सुपर किंग्स टीम से जुड़ने से पहले मैं रैना के साथ नियमित रूप से अभ्यास से जुड़ा हुआ था। अभ्यास के दौरान वह हमेशा भारतीय क्रिकेट टीम में वापसी की बात करते थे। भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के क्रिकेट को अलविदा कहते ही सुरेश रैना ने भी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से शनिवार को सन्यास ले लिया।

s raina
suresh raina file photo

अंडर-19 विश्वकप 2018 के विजेता टीम के तेज गेंदबाज शिवम मावी ने बताया कि संभवत: महेंद्र सिंह धोनी के सन्यास की घोषणा के बाद ही उन्होंने यह निर्णय लिया होगा, क्योंकि वह काफी भावुक व्यक्ति हैं। महेंद्र सिंह धोनी के साथ उनकी गाढ़ी मित्रता है। ऐसे में उन्होंने सन्यास की घोषणा कर दी होगी। वह बताते हैं कि आईपीएल जाने से पहले सुरेश रैना और मैं साथ में ही अभ्यास कर रहे थे, लेकिन कभी भी ऐसा नहीं लगा कि वह सन्यास की घोषणा करेंगे। वह तो हमेशा यह कहते रहे कि उन्हें टीम इंडिया में वापसी करनी है। सुरेश रैना व्यवहारिक और सुलझे इंसान हैं। आईपीएल के मुकाबलों में दिग्ग्ज महेंद्र सिंह धोनी और सुरेश रैना के खिलाफ खेलने का मौका मिलेगा। दोनों से बहुत कुछ सीखने का मौका मिला है।

धोनी के बताए टिप्स को मैदान पर अपनाता हूं
शिवम मावी ने बताया कि आईपीएल 2018 में मैं महेंद्र सिंह धोनी से मुलाकात की थी। उन्होंने मुझे 15-20 मिनट का समय दिया था। मैंने उनसे गेंदबाजी के दौरान फिल्डिंग किस तरह से लगानी है इस बारे में जानकारी ली थी। उन्होंने बताया कि मैच चाहे जो भी हो ज्यादा प्रयोग करने की जरुरत नहीं। बल्कि अपनी सामान्य गेंदबाजी ही करनी है। यह जरुरी है कि जिस तरफ गेंदबाजी करनी है उस ओर फिल्डरों की स्थिति सही होनी चाहिए। शिवम बताते हैं कि उनका सन्यास लेना क्रिकेट के एक युग के अंत होने जैसा है। वह महान थे, हैं और रहेंगे।

विश्व के दो बेहतर क्रिकेटरों के सन्यास से क्रिकेट एके एक युग का अंत : परविंदर अवाना

पूर्व अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटर परविंदर अवाना बताते हैं कि कैप्टन कूल के नाम से मशहूर महेंद्र सिंह धोनी और पूर्व कप्तान सुरेश रैना के सन्यास से क्रिकेट के एक युग का अंत हो गया है। मैंने आईपीएल और अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में महेंद्र सिंह धोनी के साथ खेला। दो टी-20 अंतरराष्ट्रीय मैच के दौरान वह कप्तान थे। उनकी खासियत यह थी कि वह सभी खिलाड़ियों से दोस्ताना व्यवहार करते थे। भले ही उसका पहला मैच हो या फिर 100 से अधिक मैच खेल चुका हो। जिससे नए खिलाड़ियों को बहुत कुछ सीखने को मिलता है और किसी भी बात को पूछने के लिए हिचकता नहीं है। आईपीएल में वह मेरी टीम के खिलाफ खेले। उन्होंने कहा था कि ग्राउंड पर उतरने से पहले सभी तरह के दबाव से मुक्त होना जरुरी है। जो बेहतर प्रदर्शन के लिए जरुरी है। निर्णय लेने के लिए शांत मन होना जरुरी है। सुरेश रैना के बारे में परविंदर बताते हैं कि वह करीब मेरे ही उम्र के ही हैं। ऐसे में उनसे दोस्ताना और भाई की तरह का व्यवहार था। कई टूर्नामेंट में वह प्रतिद्वंद्वी टीम का हिस्सा रहे। दोनों खिलाड़ियों का एकाएक सन्यास लेना थोड़ा चौकाने वाला था।

Leave a Reply