कोविड ने खिलाड़ियों पर मनोवैज्ञानिक प्रभाव डाला : खेल विशेषज्ञ

नोएडा। खेलरत्न, सं : Time, 10:00, PM.
सेक्टर-125 स्थित एमिटी विश्वविद्यालय की ओर से ”कोविड उपरांत परिदृश्य में खेल प्रदर्शन का मनोवैज्ञानिक विश्लेषण” विषय पर गुरुवार को एक वेबिनार का आयोजन किया गया। इसमें वरिष्ठ मनोवैज्ञानिक एंव ए – गेम की निदेशिका संजना किरण, खेल विश्लेषक आशीष भारद्वाज, एमिटी स्कूल ऑफ फिजिकल एजुकेशन एंड स्पोर्टस सांइसेस की निदेशिका डा. कल्पना शर्मा और एमिटी स्कूल ऑफ फिजिकल एजुकेशन एंड स्पोर्टस सांइसेस के राहुल कुमार ने विषय के विभिन्न पहलुओं के बारे में जानकारी दी।

amity
एमिटी विश्वविद्यालय के वेबिनार में बोलतीं खेल विशेषज्ञ


वरिष्ठ मनोवैज्ञानिक संजना किरण ने कहा कि खेल के प्रर्दशन से जुड़े मनोविज्ञान को समझना बेहद जरुरी है। किसी भी खिलाड़ी का उददेश्य बेहतरीन प्रर्दशन करना होता है। इसके लिए मानसिक लचीलापन जरुरी है। उन्होंने कहा कि लिहाजा प्रतियोगिता की प्रक्रिया का आनंद लें।कोरोना महामारी ने खिलाड़ियों के प्रर्दशन पर मनोवैज्ञानिक प्रभाव डाला है। यह सकरात्मक और नकारात्मक दोनों हैं। सकारात्मक प्रभाव के तहत प्रोत्साहन प्राप्त करना, आत्म विश्वास और खेल पर ध्यान केंद्रीत करना शामिल है। नकरात्मक प्रभाव में आत्मविश्वास एंव प्रोत्साहन की कमी, व्याकुल, प्रदर्शन में निरंतरता की कमी आदि है।
खेल विश्लेषक आशीष भारद्वाज ने बताया कि खेल प्रदर्शन का मनोवैज्ञानिक विश्लेषण दो भागों में विभाजित है। प्रतियोगिता और प्रशिक्षण। मैच के दौरान दर्शक स्टेडियम में मौजूद रहते थे। लेकिन वर्तमान में यह स्थिति नहीं है। ऐसे में खिलाड़ियों का प्रदर्शन किस तरह का होगा। कोविड संक्रमण के बाद क्या स्थिति होगी। इन पहलुओं को समझना जरुरी है। एमिटी स्कूल ऑफ फिजिकल एजुकेशन एंड स्पोर्टस सांइसेस की निदेशिका डा कल्पना शर्मा ने अतिथियों का स्वागत करते हुए कहा कि कोविड के समय खिलाड़ी एंव खेल प्रदर्शन के परिपेक्ष्य को समझना आवश्यक है। इस दौरान विशेषज्ञों से कई प्रश्न भी किए गए।

Leave a Reply