आयुषि-निमिषा बनीं यूपी चैंपियन, चिराग उपविजेता

नोएडा। खेलरत्न, सं : Time, 9:00, PM.
जिले की आयुषि धस्माना और निमिषा पांडेय अंडर-19 बैडमिंटन के युगल वर्ग की प्रदेश चैंपियन बनी। वहीं एकल वर्ग में चिराग सेठ उपविजेता बने। नोएडा की ही अनुषा गोयल युगल वर्ग में उपविजेता रहीं। प्रतियोगिता मुरादाबाद में सोमवार को समाप्त हुई। एकल और युगल वर्ग के दोनों खिताबी मुकाबले दो सेट से आगे नहीं बढ़ पाए।

badminton
प्रदेश अंडर-19 बैडमिंटन चैंपियनशिप के युगल वर्ग की विजेता

युगल वर्ग के खिताबी मुकाबले में आयुषि और निमिषा की जोड़ी ने नोएडा की ही अनुषा गोयल और खुशी पंत की जोड़ी को सीधे सेटों में 21-19, 21-19 से हराया। दो सेट में ही परिणाम आने के बाद भी दोनों जोड़ियों के बीच कड़ी टक्कर हुई, क्योंकि दोनों सेट में जीत का अंतर महज दो अंक रहा। इस वर्ष आयुषि और निमिषा ने तीन खिताब अपने नाम किए। जिसमें से दो प्रदेश रैंकिंग टूर्नामेंट भी शामिल है। वहीं एकल वर्ग के फाइनल में चिराग सेट अपने प्रदर्शन को नहीं दोहरा पाए। उन्हें राजन यादव ने 21-14, 21-10 से हराकर खिताब अपने नाम किया। इस वर्ष चिराग ने प्रदेश रैंकिंग प्रतियोगिता सहारनपुर के विजेता बने थे। वहीं झांसी में हुई प्रदेश रैंकिंग प्रतियोगिता में क्वार्टर फाइनल तक पहुंचे।

 

‘हमें जीत की उम्मीद थी। दोनों ने अच्छे खेल का प्रदर्शन भी किया। कांटे की टक्कर हुई। दोनों सेटों के अंतिम समय में हमने सोच समझकर खेला। जिसका फायदा भी मिला।’
आयुषि, निमिषा, विजेता अंडर-19 युगल वर्ग, प्रदेश बैडमिंटन चैंपियन

‘प्रदर्शन के लिहाज से यह साल संतोषजनक रहा। भविष्य में और भी बेहतर प्रदर्शन का प्रयास होगा। खिताबी मुकाबले में कई चूक हुई, जिसे भविष्य की प्रतियोगिताओं में दोहराना नहीं चाहूंगा।’
चिराग सेठ, प्रदेश बैडमिंटन चैंपियनशिप, उपविजेता, अंडर-19

badminton all
प्रतियोगिता के सभी विजेता और अतिथिगण

एक ही मैच जीतकर खिताब पर कब्जा किया
आयुषि और निमिषा को क्वार्टर फाइनल और सेमीफाइनल मुकाबला खेलना था। दोनों मुकाबले में इस जोड़ी को वॉक ओवर मिला। लिहाजा इस टूर्नामेंट में उन्हें सिर्फ एक मुकाबला खेलना पड़ा। जिसे जीतकर यह जोड़ी विजेता बनीं। आयुषि धस्माना को प्रतियोगिता के युगल वर्ग में प्रथम वरीयता प्राप्त थी। वहीं अनुषा और खुशी को दो मुकाबलों में जीत के बाद फाइनल खेलने का मौका मिला था।

चिराग ने चार मैच जीतकर फाइनल में जगह बनाई थी
चिराग सेठ को फाइनल से पहले पांच मैच खेलने थे। पहले मुकाबले में उन्हें वॉक ओवर मिला। इसके बाद लगातार चार मुकाबले जीते। इसमें से तीन में उन्होंने प्रतिद्वंद्वियों को सीधे सेटों में हराया था। एक में तीन सेट के बाद वह जीत पाए। 35 मिनट तक चले खिताबी मुकाबले में उन्हें हार का सामना करना पड़ा। क्वार्टर फाइनल मैच महज 20 मिनट में अपने नाम किया।

Leave a Reply