पहले विश्वकप में दिग्गज अर्जेंटीना-इटली ग्रुप स्टेज से ही हो गए थे बाहर

जूनियर फुटबॉल का महायुद्ध : फीफा वर्ल्ड कप फुटबॉल  अंडर-17 
विश्वकप फुटबॉल अंडर-17 का आगाज छह अक्टूबर से होगा। भारत में फुटबॉल के लिए यह सबसे बड़ा आयोजन है। यह हमारे लिए गर्व की बात है कि हम फुटबॉल के इस महाकुंभ के मेजबान हैं। जूनियर फुटबॉल के कई पहलुओं से अब भी हम पूरी तरह वाकिफ नहीं है। ऐसे में खेलरत्न डॉट ओआरजी वेबसाइट फुटबॉल के इस महायुद्ध से जुड़ी अहम जानकारी देगी। 1985 से इसकी शुरुआत हुई थी। तब से अब तक की रोचक जानकारी  किस्तवार पढ़ सकेंगे। उम्मीद है कि हमारा यह प्रयास आपको पसंद आएगा। 
fifa u 17 world cup football india image
file photo
दिल्ली : खेलरत्न, सं, 
पहले अंडर-16 विश्वकप 1985 में (अंडर-17 विश्वकप की शुरुआत अंडर-16 से ही हुई थी।) अर्जेनटीना, इटली और मेक्सिको जैसी धाकड़ टीमें ग्रुप स्टेज से ही बाहर हो गई थी। उस समय विश्वकप के  लिहाज से यह सबसे बड़ा उलटफेर था। इस विश्वकप का विजेता नाइजीरिया बना था। नाइजीरिया ने वेस्ट जर्मनी को 2-0 से हराकर अंडर-16 विश्वकप फुटबॉल का पहला विजेता बना।
चीन के चार शहरों बिजिंग, संघाई, तियाजिन, डुलियन में 31 जुलाई से शुरू हुई प्रतियोगिता में 16 देशों ने भाग लिया था। ग्रुप स्टेज में अर्जेनटीना तीन मैचों में से एक ही जीत पाया था। वहीं इटली की भी यही स्थिति थी, लेकिन इटली दो मैच हारा था। वहीं अर्जेनटीना एक मैच हारा था और एक ड्रा रहा था। मेक्सिको की हालत भी अर्जेनटीना जैसी ही थी। अपने-अपने समूह में तीनों टीमें तीसरे स्थान पर रहीं थी। ऐसे में उन्हें क्वार्टर फाइनल खेलने का मौका नहीं मिला था। चारों ग्रुप के टॉप दो टीमों को क्वार्टर फाइनल खेलने का मौका मिला था। अर्जेटीना को ऑस्ट्रेलिया से हार का सामना करना पड़ा था। जर्मनी से ड्रॉ रहा था और कांगो से टीम को जीत मिली थी। इटली को नाइजिरिया ने 1-0 से हराया था। सऊदी अरबिया से भी इटली को 3-1 से हार गई। सिर्फ कोस्टारिका से 2-0 से टीम को जीत मिली थी। मेक्सिको को सिर्फ कतर से 3-1 से जीत मिली थी। ब्राजील ने 2-0 से हराया था। हंगरी से 1-1 से ड्रा खेला। इससे स्पष्ट है कि पहले जूनियर विश्वकप में कई उलटफेर हुए थे। इसमें फुटबॉल की कई दिग्गज टीमों का इसका सामना करना पड़ा था। बोलिविया, कतर, कांगो और कोस्टारिका एक भी मैच नहीं जीत पाने वाली टीमें रही थीं।
world cup ftbl
वेस्ट जर्मनी को हराकर नाइजिरिया ने जीता खिताब
 पहले विश्वकप में नाइजीरिया ने शानदार प्रदर्शन करते हुए खिताबी जीत हासिल की। हालांकि नाइजिरिया सी ग्रुप में दूसरे स्थान पर रहा था। अप्रत्याशित रूप से सउदी अरब इस ग्रुप की नंबर एक टीम बनी। नाइजीरिया ने इटली और कोस्टारिका को हराया। वहीं सउदी अरब से ड्रॉ खेला। सउदी अरब के पास भी नाइजीरिया जितने ही अंक थे, लेकिन गोल औसत अधिक होने के कारण टीम को सी ग्रुप में पहला स्थान मिला था। नाइजिरिया ने खिताबी मुकाबले में वेस्ट जर्मनी को 2-0 से हराया था। टीम को 4थे मिनट में ही अकपोबोरी ने 1-0 से बढ़त दिलाई। इसके बाद 79वें मिनट में नाइजिरिया की ओर से इगबिनोबा ने गोल कर टीम को 2-0 से अच्छी बढ़त दिला दी। इससे पहले दोनों टीमों के बीच कांटे की टक्कर देखेने को मिली थी। तीसरा स्थान ब्राजील ने गुयाना को हराकर प्राप्त किया। इस मैच में ब्राजील की टीम ने गुयाना को 4-1 से हराया।
1985 विश्वकप अंडर-16 फुटबॉल एक नजर : 
-12 दिनों तक चीन के चार शहरों में खेली गई प्रतियोगिता
-16 टीमों के बीच 32 मुकाबले खेले गए
-इन मुकाबलों में 91 गोल हुए
-प्रत्येक मुकाबला औसतन 2.84 गोल हुए
-7 लाख 35 हजार लोगों ने पहले विश्वकप के मैच देखें
-प्रति मैच 22,969 दर्शक मैच देखने स्टेडियम पहुंचे

Leave a Reply